October 26, 2021

On the birth of the fourth daughter, the father attempted suicide by jumping into the puddle; After much persuasion, the mother-in-law took her home but got angry. | चौथी बेटी के जन्म पर पिता ने पोखर में छलांग लगा खुदकुशी की कोशिश की; काफी समझाने के बाद सास घर ले गई मगर गुस्से में


  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Muzaffarpur
  • Bagha
  • On The Birth Of The Fourth Daughter, The Father Attempted Suicide By Jumping Into The Puddle; After Much Persuasion, The Mother in law Took Her Home But Got Angry.

बगहा2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
अस्पताल में बच्ची को गोद मे लिए रीता। साथ में हैं आशा व सास। - Dainik Bhaskar

अस्पताल में बच्ची को गोद मे लिए रीता। साथ में हैं आशा व सास।

शारदीय नवरात्र के अवसर पर जहां पूरा देश शक्ति की आराधना में जुटा हुआ है। हर ओर भक्ति का माहौल है। नारी को शक्ति का स्वरूप मानकर पूजा की जा रही है। इसी दौरान एक ऐसा मामला भी आया है, जहां एक कन्या को जन्म देने के बाद उसके परिवार वालों ने उसे अपनाने से इन्कार कर दिया।

पुत्री के जन्म की खबर सुन पिता ने खुदकुशी करने के लिए पोखर में छलांग लगा दी। हालांकि ग्रामीणों की मदद से उसे बचा लिया गया है। उसके बाद भी वह पत्नी और बच्ची को घर नहीं लाने की जिद पर अड़ा है और उन्हें घर नहीं आने की धमकी दे रहा है। हालांकि अस्पताल प्रशासन व अन्य महिलाओं की पहल पर महिला व बच्ची को घर भेजा गया है। मामला बगहा शहर के शास्त्रीनगर मुहल्ले के वार्ड 18 का है।

पति अपनी पत्नी और बेटी को देखने अस्पताल भी नहीं गया। इसके बाद से वह गायब है। तालाब में डूबने से उसे ग्रामीणों ने बचा लिया, लेकिन उसके कुछ देर से बाद वह गायब बताया जा रहा है। परिजन उसे भी खोजने में लगे हैं।

मुहल्ले के लोगों ने प्रदीप को डूबने से बचा लिया
जैसे ही नवजात के पिता प्रदीप को चौथी बेटी के जन्म की खबर मिली, तो वह काफी दुखी हुआ और खुदकुशी की नीयत से उसने मुहल्ले के तालाब में छलांग लगा दी। हालांकि मौके पर मौजूद मुहल्लेवासियों की मदद से उसे तत्काल डूबने से बचा लिया गया। फिर भी उसने पत्नी को धमकी दी कि बच्ची को घर नहीं लाए नहीं तो ठीक नहीं होगा।

प्रसूता बोली- वह खुद पाल लेगी सभी बेटियों को
दो दिनों से अस्पताल में भर्ती रही रीता चौथी नवजात संतान के साथ परिजनों का इंतजार कर रही थी। लेकिन, उनके व्यवहार से उसे दुख है। रीता ने बताया कि बच्ची को रखने से परिजनों के इन्कार के बाद वह बाकी तीन बेटियों की तरह ही इसका भी पालन-पोषण करेगी। कोई कुछ भी कहे, लेकिन वह अपनी संतान किसी दूसरे काे गाेद नहीं देगी।

पहले से 3 बेटियां, यही है नाराजगी की वजह
प्रदीप एवं रीता को पहले से तीन बेटियां हैं। मंगलवार को रीता ने अस्पताल में चौथी बार भी एक बच्ची को जन्म दिया। आशा से यह सूचना पाकर परिजनों ने बच्ची को घर लाने से इन्कार कर दिया। इस वजह से मंगलवार को रीता व बच्ची अस्पताल में ही रही। परिजनों ने कहा कि पहले से ही तीन बेटियां है, चौथी बेटी का क्या करेंगे?

डॉक्टर ने कहा कि यह रवैया काफी शर्मनाक
लोगों के काफी कहने सुनने और अस्पताल प्रशासन के काफी समझाने के बाद रीता की सास अपनी बहू और पोती को घर ले गई। परंतु, लोगों का कहना है कि वह गुस्से में घर ले गई।
बगहा अनुमंडलीय अस्पताल के प्रशासनिक पदाधिकारी डाॅ. राजेश सिंह ने कहा कि परिजनों का यह रवैया शर्मनाक है।

खबरें और भी हैं…