October 26, 2021

Registration of pensioners 13 thousand, 2500 only | पेंशनर्स 13 हजार, 2500 का ही हुआ पंजीयन


भीलवाड़ा17 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

पेंशनर्स के लिए अब आरजीएचएस (राजस्थान गवर्नमेंट हैल्थ स्कीम) कार्ड अनिवार्य कर दिया है। एक नंवबर से कार्ड होने पर ही उन्हें आउटडोर व इंडोर मेडिकल सेवाओं का लाभ मिलेगा। बरसों से चल रही मेडिकल डायरी व्यवस्था अब पूरी तरह बंद हो गई है।

उपभोक्ता होलसेल भंडार की दुकानों से अब एनएसी जारी नहीं होगी। पर्ची में लिखी दवा उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी उपभोक्ता भंडार की होगी। किसी भी पेंशनर्स को दवा के लिए भटकना नहीं पड़ेगा। जिला कोषाधिकारी रेखा शर्मा ने बताया कि योजना की नोडल एजेंसी राज्य बीमा एवं प्रावधायी निधि विभाग को बनाया गया है। जिले में 13 हजार पेंशनर्स है। इनमें से करीब 2500 पेंशनर्स ने पंजीयन करा लिया है। पंजीयन के लिए जीपीएफ, जिला एवं उप कोष कार्यालयों में हेल्प डेस्क बनाई गई है।

अभी स्वयं करते हैं भुगतान, बाद में सरकार से मिलता है

अभी राज्य सरकार के पेंशनर्स को अस्पताल में भर्ती होने पर खर्चा पहले स्वयं की जेब से देना होता था। इसके बाद सरकार उसका पुनर्भरण करती थीं। अब केंद्र सरकार के सीजीएचएस पेंशन के पैटर्न पर राज्य सरकार ने आरजीएचएस स्कीम लागू की। इसमें सरकार ने बीमा कंपनी से टाईअप किया। प्रत्येक कर्मचारी पेंशनर्स को पांच लाख रुपए तक के इलाज की फ्री सुविधा दी जाएगी। मरीज के भर्ती होने पर केश लेस इलाज की सुविधा दी जाएगी।

एसएसओ-आईडी से भी करा सकते हैं पंजीयन
पूर्व आईएएस अधिकारी नरेंद्रकुमार जैन के अनुसार, आरजीएचएस पंजीयन के लिए जन आधार कार्ड आवश्यक है। जन आधार कार्ड से पेंशनर्स ई मित्र या स्वयं अपने स्तर पर एसएसओ-आईडी से आरजीएचएस पंजीयन करा सकते हैं। पेंशनर्स को चेकअप कराने के लिए जाते समय आरजीएचएस कार्ड ले जाना आवश्यक है। उपभोक्ता भंडार पर आरजीएचएस कार्ड दिखाकर दवा प्राप्त कर सकता है।

खबरें और भी हैं…